ब्लाग परिचय

मेरा नाम डॉ. सुनील दीपक है और मैं इस ब्लाग का निर्माणकर्ता, लेखक और फोटोग्राफ़र हूँ। आईये सबसे पहले आप को मैं अपने कार्य सम्बंधी जीवन से मिलवाता हूँ।

मेरा कार्य जीवन

मैं भारतीय मूल का डॉक्टर हूँ। मेरी स्कूल तथा मेडिकल कॉलेज की शिक्षा दिल्ली में हुई। मैं पिछले करीब 40 वर्ष से इटली में रहता हूँ, जहाँ मैं तीन दशकों से अधिक समय तक एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था के साथ काम कर रहा था जो अफ्रीका, एशिया व दक्षिण अमरीका के विभिन्न देशों में स्वास्थ्य सम्बँधी कार्यक्रमों से जुड़ी थी। साथ ही मैंने कई बार संयुक्त राष्ट्र संघ की विभिन्न संस्थाओं, विषेशकर, अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (World Health Organisation) के लिए भी काम किया। इस क्षेत्र में काम करने से मुझे दुनिया भर के बहुत से देशों में घूमने का मौका मिला।

तीस वर्ष पहले जब मैंने काम शुरु किया था तब मेरे कार्य के विषय थे प्राथमिक चिकित्सा (primary health care), सामुदायिक चिकित्सा (community health), तथा कुष्ठ रोग (leprosy)। फ़िर धीरे धीरे, मैं विभिन्न तरह की विलकाँताओं के क्षेत्र में सक्रिय हो गया, विषेशकर सामुदायिक विकलाँग पुनर्निवास कार्यक्रमों (community-based rehabilitation programmes) में। पिछले दस वर्षों में मैंने सामुदायिक स्तर पर शौध कार्य में अनुभव भी जोड़ा और विषेश रूप से एक नयी शौध पद्धति जिसे आत्म सशक्तिकरण शौध (emancipatory research) कहते हैं, में भी बहुत से अनुभव जोड़े हैं।

2014 में, मैं इटली में इस्तीफ़ा दे कर, भारत लौटा और इस दौरान एक भारतीय गैरसरकारी संस्थान के साथ जुड़ कर दो वर्ष के लिए असम में गुवाहाटी में रहा। 2017 से मैं वापस इटली में रहता हूँ, सेवानिवृत हो चुका हूँ लेकिन अक्सर संयुक्त राष्ट्र संघ से जुड़े या अगर कोई विकलाँगता या शौध के क्षेत्र में मदद माँगे तो छोटे मोटे काम ले लेता हूँ। कई बार भारतीय गैरसरकारी संस्थाओं के लिए बिना पैसे के भी काम किया है।

मेरे रुचि क्षेत्र

आरम्भ से ही मुझे पढ़ने लिखने, कला, इतिहास, देश विदेश की यात्राएँ, फोटोग्राफ़ी, आदि विषयों में रुचि थी। 1990 के दशक में जब क्मप्यूटर, इंटरनेट तथा डिजिटल मीडिया का युग आया तो मुझे इन सब विषयों में अपनी रुचियाँ अन्य लोगों के सामने रखने का मौका मिल गया। मैंने इंटरनेट की एच.टी.एम.एल. (HTML) भाषा सीखी और अपनी पहली वेबसाईट बनायी जिसका नाम था "सृजन"। 2001-02 में इस का नाम बदल कर "कल्पना" हो गया और साथ में मैंने हिन्दी, अंग्रेज़ी और इतालवी भाषा में विभिन्न ब्लाग बना कर उनमें लिखना शुरु कर दिया। कल्पना की वेबसाईट अभी भी है, लेकिन उस पर आजकल कम ही लिखता हूँ।

मेरा पहला हिन्दी ब्लाग

हिन्दी के मेरे ब्लाग का नाम था "जो न कह सके"। करीब बीस वर्ष पहले, जब यह शुरु किया था तब इंटरनेट पर हिन्दी लिखने वाले थोड़े से ही लोग थे, और हम सब लोग एक दूसरे को जानते थे। तब हम एक दूसरे को पढ़ते थे, मिल कर भी हमने कुछ काम किये थे। आज हिन्दी चिट्ठाजगत में कौन क्या लिखता है, कौन प्रसिद्ध है, यह सब कुछ नहीं जानता लेकिन पंद्रह-बीस वर्ष पहले जो ब्लाग लिखते थे, उनके नाम आज भी याद हैं, उनमें से कुछ लोगों से आज भी फेसबुक के माध्यम से कभी कभार बात हो जाती है।

मुझे अपने पहले हिन्दी ब्लाग से बहुत कुछ मिला - थोड़ी सी प्रसिद्धी, लोकप्रियता और बहुत से हिन्दी में लिखने वालों से जानपहचान। यह ब्लाग गूगल के प्लेटफॉर्म ब्लॉगर पर बना था। उस ब्लाग पर मैंने 2017 तक लिखा लेकिन उससे दो वर्ष पहले ही मेरा उससे मन उचट गया था, जब ब्लॉगर वालों में मुझे कहा कि मेरे ब्लाग में कुछ नग्न तस्वीरें थीं तथा यौन विषयों पर बातें थी, वह सब अश्लील था, मुझे उन्हें हटाना पड़ेगा। मैंने उनकी बात मान तो ली, लेकिन साथ ही लगा कि मैं जो कहना चाहता हूँ उसमें एक सेसंर बोर्ड बीच में आ गया है।

यह नया हिन्दी ब्लाग

2017 में मैंने यह नया वेबपृष्ठ बनाया और ब्लॉगर पर चलने वाले अपने सारे ब्लाग बन्द कर दिये। इस नयी वेबसाईट के विभिन्न हिस्सों को मैंने अपने पुराने ब्लागों के नाम दिये हैं, इस तरह से हिन्दी चिट्ठे को "जो न कह सके" ही बनाया है। कोई मुझे यह नहीं कहे कि मैं अपने ब्लाग पर क्या लिखता हूँ, क्यों लिखता हूँ, कौन सी तस्वीरें लगाता हूँ, यह सब सोच कर मैंने निश्चय किया कि नया ब्लाग सौ प्रतिशत मेरा होगा इसमें किसी व्यवसायिक कम्पनी की किसी तकनीकी का प्रयोग नहीं करूँगा। इसलिए इस ब्लाग को बनाने के लिए वर्डप्रेस, जूमला, जैसी किसी सोफटवेयर का प्रयोग नहीं किया गया, सारी वेबसाईट को मैंने एच.टी.एम.एल. (HTML) तथा सी.एस.एस. (CSS) के साथ मैंने अपने आप ही कोड किया है। जानबूझ कर ही इसमें कमैंट या टिप्पड़ियाँ जैसी सुविधाएँ नहीं रखी ताकि स्पैम आदि की दिक्कत नहीं हो। अगर पाठक मुझसे कुछ बात करना चाहते हें तो वह ईमेल या फेसबुक के माध्यम से सम्पर्क कर सकते हैं।

डॉ. सुनील दीपक अपनी पोती के साथ

कॉपीराईट

अगर आप मेरे लिखे का उपयोग करना चाहता है, तो शौक से कीजिये। अगर आप उसमें मेरे नाम का और इस चिट्ठे का संदर्भ देंगे और उसके बारे में मुझे बतायेंगे तो मुझे अच्छा लगेगा। लेकिन अगर आप उसे चोरी करके अपने नाम से छापना चाहते हैं, तो शौक से करिये, मैं आप की रिपोर्ट करने नहीं जाऊँगा।

इस ब्लाग की मेरी खींची हुई सब तस्वीरों का भी आप जैसा चाहें वैसा उपयोग कर सकते हैं। मेरे पास बहुत से देशों तथा विषयों की हज़ारों तस्वीरें हैं, अगर आप को कोई तस्वीर ऊँचे रिज़ोल्यूशन में चाहिये तो मुझे ईमेल भेजें। मेरा ईमेल का पता है - sunil.deepak@gmail.com

*****

सूचना: इस ब्लाग पर टिप्पणी देने की सुविधा नहीं है. लेकिन अगर आप चाहें तो लेखक को ईमेल (sunil.deepak@gmail.com) भेज सकते हैं या फ़िर इस ब्लाग के फेसबुक पृष्ठ पर अपनी टिप्पणी छोड़ सकते हैं.

*****

वापस होमपेज पर जायें

ब्लाग परिचय

मेरी लिन्क

आलेखों के वार्षिक पुरागार

मनपसंद हिन्दी चिट्ठे

कुल चिट्ठा पाठक

प्राईवेसी कुकीज़

तस्वीरों के कोपीराईट

सम्पर्क

Dr Sunil Deepak
Schio (VI)

Email: sunil.deepak(at)gmail.com